Wednesday, 27 November 2013

आज मैंने खुद को जाने से बहुत रोका.....!!!

आज मैंने खुद को जाने से बहुत रोका,                 
कितनी कसमे दी वादे दिए,
जिंदगी का वास्ता भी दिया..... 
पर मैं फिर भी खुद को रोक न सकी,
ना जाने क्यों....
आज खुद को छोड़ देना चाहती थी....!
हर कसम तोड़ कर,
खुद को छोड़ कर जाना चाहती थी, 
आज मैंने खुद ना जाने से बहुत रोका....!
कितनी बार...
हाथ थाम कर बिठाया खुद को, 
कितनी बार....
अपने जज़बातो को समझाया खुद को.... 
सारी दुनिया से जीत कर,
आज मैं खुद से हार गयी हूँ.......!
कि अब खुद ही खुद से जिद कर रही थी, 
अब मैं खुद के साथ....और 
धोखे में रह नही सकती..... 
झूठ को अब और सच मान नही सकती.... 
मैंने खुद से कहा अब...
मुझे तुम्हे छोड़ कर जाना होगा...
मैं हार गयी हूँ....
तुम्हारी ये दलीले सुन कर... 
मैं तुम्हारे इन भावो में बह कर,
खुद को खोती जा रही हूँ......
मैं जा रही हूँ.....खुद कि तलाश में...!
जिसे तुम न जाने कहाँ छोड़ आयी हो.... 
अपने एहसासो को दबा कर,
तुम पत्थर बन सकती हो.....
मैं नही...... अब मैं तुम्हारा और साथ नही दे सकती,
और दर्द नही सह सकती.....
तुम जीयो अपने झूठे भ्रम के साथ....
मैं जा रही हूँ......इक वादा तुमसे करती हूँ,
जब इस भ्रम कि दिवार टूटेगी...
तुम सच को जानोगी तो,
मैं खुद तुम्हे मिल जाउंगी......
अलविदा.....!!! 
आज मैंने खुद को जाने से बहुत रोका.......!!!

21 comments:

  1. आखिर उसने अपनी अंतरात्मा की आवाज सुन ही ली ...... सुंदर भावों की अभिव्यक्ति ......!!

    ReplyDelete
  2. खुद से कोई कैसे भाग सकता है...खुद में छुपे हैं राज सारे...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ,ह्रदयस्पर्शी.आभार

    ReplyDelete
  4. बढ़िया है -
    आभार आपका-

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया.....
    गहन अभिव्यक्ति....

    अनु

    ReplyDelete
  6. क्या बात है गजब की कहानी

    ReplyDelete
  7. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शुक्रवार (29-11-2013) को स्वयं को ही उपहार बना लें (चर्चा -1446) पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  9. वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  10. वाह ..बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!

    ReplyDelete
  11. वाह बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!

    ReplyDelete
  12. मैं नही...... अब मैं तुम्हारा और साथ नही दे सकती,
    और दर्द नही सह सकती.....
    तुम जीयो अपने झूठे भ्रम के साथ....
    मैं जा रही हूँ......इक वादा तुमसे करती हूँ,
    जब इस भ्रम कि दिवार टूटेगी...
    तुम सच को जानोगी तो,
    gahri soch
    rachana

    ReplyDelete
  13. मैं जा रही हूँ.....खुद कि तलाश में...!

    बहुत सुन्दर भाव....खुद को तलाशना बहुत जरूरी लेकिन सबसे कठिन काम है...अच्छी रचना के लिए बधाई .....

    ReplyDelete
  14. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  15. प्रशंसनीय रचना - बधाई
    लम्बे अंतराल के बाद शब्दों की मुस्कुराहट पर ....बहुत परेशान है मेरी कविता

    ReplyDelete
  16. आप की रचना ने वाकया कायल कर दिया

    ReplyDelete